Jitan Ram Manjhi Biography in hindi जीतन राम मांझी का जीवन परिचय 

Jitan Ram Manjhi Jivani जीतन राम
मांझी जीवन परिचय

जानिए जीतन राम मांझी का जन्म, शिक्षा, परिवार और अब तक का सफर

जीतन राम मांझी का जन्म बिहार के गया जिला की खिजरसराय के महकार
गांव में 6 अक्टूबर 1944 को हुआ
उनके पिता का नाम रामजीत राम मांझी है जो खेतिहर
मजदूर थे
उन्होंने गया महाविद्यालय से 1966 में स्नातक तक की शिक्षा
प्राप्त की है
बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी गया जिले की इमामगंज (सुरक्षित) सीट से खुद चुनावी मैदान में हैं मांझी यहां से दूसरी बार चुनावी मैदान में उतरे हैं. मांझी के खिलाफ आरजेडी से पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ताल ठोक रहे हैं. यहां से उदय नारायण चौधरी
जेडीयू के टिकट पर 2000 से 2015 तक लगातार चार बार विधायक रहे हैं. पिछले चुनाव में
मांझी और चौधरी के बीच मुकाबला हुआ था. इस सीट पर सियासी हलकों की खास नजर है. क्योंकि
बिहार के सियासी किंगमेकर बनने की चाह लेकर महागठबंधन से नाता तोड़कर एनडीए में जीतनराम
मांझी शामिल हुए हैं।
 

Jitan Ram Manjhi Jivani-Biography

जीतन राम मांझी
शैक्षणिक योग्यता Educational Qualification of Jitan Ram Manjhi

जीतन राम मांझी गया महाविद्यालय से 1966 में स्नातक तक
की शिक्षा प्राप्त की है वो महादलित मुसहर समुदाय से हैं। 1966 में जीतनराम मांझी ने
लिपिक की नौकरी करना आरम्भ किया और 1980 में नौकरी छोड़ दी।

नौकरी छोड़ने के बाद जीतनराम मांझी ने राजनीति में कदम
रखा और 1980 में विधायक चुने गये। इसके बाद वो 1990 और 1996 में भी विधायक चुने गये
2005 में बाराचट्टी से बिहार विधान सभा के लिए चुने गये. 1983 से 1985 तक वो बिहार
सरकार में मंत्री रहे. 2008 में मांझी को कैबिनेट मंत्री चुना गया. वह एक बार बिहार
के सीएम भी रहे है।

लालू यादव के बारे में पढ़े

बता दें कि मुख्यमंत्री बनने के 10 महीनों के बाद पार्टी
ने उनसे नीतीश कुमार के लिये पद छोड़ने को कहा. ऐसा न करने के कारण उनको पार्टी से
निष्कासित कर दिया गया 20 फरवरी 2014 को बहुमत साबित न कर पाने के कारण उन्होनें इस्तीफ़ा
दे दिया. उसके बाद अपनी पार्टी का गठन किया. जीतन राम मांझी की पत्नी का नाम शांति
देवी है। 

जीतन राम मांझी राजनीतिक जीवन Jitan Ram
Manjhi Political career

जीतन राम मांझी ने नौकरी छोड़ने के बाद राजनीति में कदम
रखा
भारतीय राजनेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके हैं। वो राजनीतिक पार्टी JDU
के नेता तौर पर 23 वे मुख्यमंत्री रहे। जीतन राम मांझी बिहार में दलित
समुदाय के पहले मुख्यमंत्री रहे। २० फरवरी २०१५ को उन्होनें मुख्यमंत्री पद से
इस्तीफ़ा दे दिया।

और 1980 में विधायक चुने गये। इसके बाद वो 1990 और
1986 में भी विधायक चुने गये। 2005 में बाराचट्टी से बिहार विधान सभा के लिए चुने गये।
1983 से 1985 तक वो बिहार सरकार में उपमंत्री रहे, 1985 से 1988 तक एवं पुनः 1998 से
2000 तक राज्यमंत्री रहे। 2008 में उन्हें केबिनेट मंत्री चुना गया। मुख्यमंत्री बनने
के 10 महीनों के बाद पार्टी ने उनसे नितीश कुमार के लिये पद छोड़ने को कहा। ऐसा न करने
के कारण उनको पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। 20 फरवरी 2015 को बहुमत साबित न कर
पाने के कारण उन्होनें इस्तीफ़ा दे दिया।

जीतन राम मांझी पारिवारिक विवरण Jitan Ram
Manjhi Family Details

जीतन राम मांझी महा दलित मुसहर समुदाय से हैं।

मांझी की पत्नी का नाम शान्ति देवी है जिनसे उनके दो
पुत्र एवं पाँच पुत्रियां हैं।


ये भी पढ़े

तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री

तेज प्रताप यादव


सबसे पहले जानकारी पाने के लिए आप हमारे सोशल मीडिया ग्रुप से जुड़े


 WhatsApp Group Join करने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें। 

Telegram Group Join करने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें। 


 

By Neha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *