स्वतंत्र कुमार झा उर्फ सागर नवदिया का जीवन
परिचय | Swatantra Kumar Jha or Sagar
Navadiya Biography, Jivani

Swatantra Kumar Jha or Sagar Navadiya Zila Parisad स्वतंत्र
कुमार झा उर्फ सागर नवदिया
का जन्म और राजनीति करियर

 स्वतंत्र
कुमार झा उर्फ सागर नवदिया का जन्म बिहार के बेनीपुर अंतरगत दरभंगा जिला में हुआ है

सागर
नवदिया मिथिला स्टूडेंट यूनियन के नेता हैं वर्तमान में ये जिला परिषद सदस्य के रूप
में बेनीपुर से जीत हासिल किये हैं और अच्छा समाजिक कार्य कर्ता भी है जो हमेशा लोगों
के बिच रहते हैं।

बिहार
पंचायत चुनाव 2021 में इस बार MSU मिथिला स्टूडेंट यूनियन का नाम काफी चर्चा में है।
दरभंगा जिला के बेनीपुर प्रखंड से जीते दो उम्मीदवार इसकी वजह हैं। प्रा.नि. क्षे.सं.31-10/2
से जिला परिषद सदस्य के रूप में स्वतंत्र कुमार झा उर्फ सागर नवदिया मिथिला स्टूडेंट्स
यूनियन का नाम फिर सामने ला दिया है। कुछ साल पहले दरभंगा-मधुबनी के कुछ छात्रों ने
जिस संगठन की शुरुआत की थी, उसने इस बार पंचायत चुनाव में मजबूत दस्तक दी है।

Swatantra Kumar Jha Sagar Navadia Biography, Jivani in hindi


MSU यानि मिथिला स्टूडेंट यूनियन की जीत के कारन

बिहार में 70 के दशक में
एक नारा लगा था, जिसने तत्कालीन राजनीतिक सत्ता की चूलें हिला दी थीं। ‘दो राह,समय
के रथ का घर्घर-नाद सुनो,सिंहासन खाली करो कि जनता आती है। …’ इस नारे के साथ और
जेपी यानी लोकनायक जयप्रकाश के आशीर्वाद के तले बिहार के छात्र-आंदोलन ने ऐसा जोर पकड़ा
कि जो आज दो मुख्यमंत्री और कई विधायक-सांसद देनेवाले बरगद के रूप में अपनी जड़ें जमा
चुका है। लालू प्रसाद ने जेपी आंदोलन के उफान को उसकी समग्रता तक पहुंचाया, तो नीतीश
कुमार ने उन्हीं लालू के खिलाफ बिहार को एक मजबूत विकल्प दिया।

MSU मिथिला स्टूडेंट यूनियन का मुख्य उद्देश्य

मिथिला स्टूडेंट यूनियन
मिथिला के क्षेत्र और छात्रों के विकास के लिए संघर्षरत मिथिला क्षेत्र का सबसे बड़ा
छात्र संगठन बनना चाहता है, इसकी विचारधारा मिथिलावाद कहलाती है। यह संगठन 28 जून
2015 को शुरू हुआ। 2019 में मिथिला विकास बोर्ड के गठन को लेकर दरभंगा और मधुबनी के
सभी प्रखंडों में सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा निकाली गई। इसके बाद NH57 को ईस्ट वेस्ट
कोरिडोर को बंद किया गया। पुलिस ने लाठीचार्ज किया और 6 सदस्यों को 17 दिनों के लिए
जेल जाना पड़ा। इसके अलावा बेनीपट्टी में मिथिला विकास बोर्ड के गठन
को लेकर आंदोलन हुआ था। यह आंदोलन दिल्ली
तक पहुंचा था और वहां भी मिथिला विकास बोर्ड के गठन की मांग की गयी।

स्वतंत्र कुमार झा उर्फ सागर नवदिया द्वारा दिया गया बयान

कन्हैया
कुमार कहते बहुत हैं, करते बहुत कम हैं

पंचायत
चुनाव में MSU मिथिला स्टूडेंट यूनियन
के बैनर दर्जनों उम्मीदवार इलेक्शन लड़ रहे हैं। दूसरे चरण के चुनाव तक MSU के दो प्रतिनिधि
जिला परिषद सदस्य के तौर पर चुने भी जा चुके हैं। ऐसे ही एक जिला परिषद सदस्य स्वतंत्र
कुमार झा उर्फ सागर नवदिया ने से बातचीत की और अपने विचार साझा किए।

प्रश्न – आपने कुल कितने उम्मीदवार उतारे थे।

सागर नवदियाचुनाव तो 10 चरणों का है, लेकिन अभी पहले दो चरणों में हमने बेनीपुर और अलीनगर प्रखंड में अपने उम्मीदवार उतारे हैं।

प्रश्न MSU के बारे में कुछ बताइए।

सागर नवदियामिथिला के क्षेत्र में, छात्र के सर्वांगीण विकास के लिए संघर्ष करना हमारे संगठन का मूल उद्देश्य है। हमारा दर्शन हैमिथिलावाद। यह ही मिथिला को वापस उसकी संपन्नता तक पहुंचा सकता है।

प्रश्न मिथिलावाद का मतलब क्या है?

सागर नवदियापलायन को रोकना, अच्छी शिक्षा व्यवस्था लाना। उस स्वर्णिम काल को लौटाना, जब हमारे पास 13 चीनी मिलें थीं, कभी हमारा योगदान पूरे देश के चीनी उत्पादन में 30% था। शिक्षा से लेकर रोजगार तक, अगर हमें पलायन ही करना है, तो फिर क्या ही किया जा सकता है। इस स्थिति को बदलना हमारा मुख्य उद्देश्य है।

 

 

 

By Neha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *