UPSC ki Preparation kaise kare in hindi | How to prepare for UPSC Exam? यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

UPSC Exam Preparation After 12th In Hindi यूपीएससी की तैयारी 12वीं के बाद कैसे करें?



How to prepare for UPSC Exam? यूपीएससी की तैयारी कैसे करें

UPSC ki Preparation kaise kare in hindi | How to prepare for UPSC Exam | यूपीएससी की तैयारी कैसे करें

IAS ऑफिसर बनने का ख़्वाब भारत में काफी लोगों का होता है। IAS बनने के लिए कठिन मेहनत और संघर्ष करनी पड़ती है। जीत हासिल करने के लिए हमारे पास कोई ना कोई मार्ग दिखाने वाला जरूरी है। यूपीएससी की परीक्षा को देश के सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा में से एक माना जाता है।

चलिए डिटेल में जानते हैं कि UPSC यूपीएससी की तैयारी कैसे करें।

UPSC Exam Preparation After 12th In Hindi सपने तो सभी देखते है लेकिन उसे पूरा करने की कीमत हर कोई नही चुका सकता। सपने भी उन्ही के पूरे होते है जो इसकी कीमत चुकाते है। ऐसा ही एक सपना है आईएएस बनने का। आईएएस बनने के लिए संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन करता है। यूपीएससी हमारे देश की सबसे कठीन प्रतिष्ठित परीक्षा है। हर साल लाखों युवा महज कुछ सीटों के लिए इस एग्जाम की तैयारी करते है। इस परीक्षा में सफलता का प्रतिशत बहुत ही कम है। इस परीक्षा में वही सफल होता है जिसमें शैक्षणिक योग्यता के साथ ही अनुशासन और धैर्य हो। अगर आप भी आईएएस बनने का सपना देखते है तो इसके लिए जरूरी है कि इसकी तैयारी स्नातक स्तर पर ही शुरू कर दें। सिविल सेवा में सफलता पाने के लिए एक सटीक रणनीति और व्यवस्था होना जरूरी है।

महत्वपूर्ण जानकारी

सबसे पहले एग्जाम की पूरी जानकारी होना जरूरी है।

एग्जाम में आने वाले सिलेबस को समझे

रणनीति और अध्ययन की सामग्री को इकट्ठा करें

एकाग्रता के साथ पढ़ाई करें।

पढ़ाई के साथ ही साथ लेखन करना भी जरूरी है

बारबार मोक टेस्ट दीजिए

रोज़ाना न्यूज़ पेपर और मैगज़ीन पढ़े।


अगर आप भी आईएएस
बनने का सपना देखते हैं तो ऐसे कर सकते हैं तैयारी


स्टेप (1) रणनीति और अध्ययन

सिविल सेवा UPSC परीक्षा के लिए सबसे पहले आपको अपनी 12वीं की पढ़ाई के बाद ही ये डिसिजन लें लेना चाहिए कि आपको सिविल सेवा में जाना है। सिविल सेवा की तैयारी के लिए कम से कम 2 से 3 वर्ष का समय लगता है। आप अपने ग्रेजुएशन के दिनों से ही इसकी तैयारी शुरू कर दे। इस परीक्षा की तैयारी की शुरूआत NCERT की किताबों का अध्ययन करने से करे। इसके अलावा सिविल सेवा परीक्षा का पूरा सिलेबस अपने साथ रखे और उसके अनुसार ही तैयारी करे। अधिकतर कैंडिडेट अपनी ग्रेजुएशन के किसी एक विषय में से ही परीक्षा के मुख्य चरण के लिए विषय चुनते है। इससे आपको आसानी रहती है क्योंकि आप ग्रेजुएशन के साथ इस विषय को पूरे तीन साल पढ़ते है। इसके अलावा दूसरे चयनित वैकल्पिक विषयों के लिए आप स्टडी मटेरियल का चयन कर सकते है या फिर एक्सपर्ट की सलाह ले सकते है।

स्टेप (2) समसामयिक
मुद्दो की ऐसे करें तैयारी

समसामयिक विषयों की तैयारी करने के लिए आप नियमित रूप से समाचार पत्रों का अध्ययन करें। जैसे हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस के अलावा बीबीसी और डीडी न्यूज का बुलेटिन जरूर देखे। पिछले साल के प्रारंभिक प्रश्न पत्रों में भी समसामयिक मुद्दों से संबंधित प्रश्नों का अच्छा अनुपात रहा है इसलिए ये जरूरी है कि समसामयिक मुद्दों की तैयारी करते रहना चाहिए। इसके अलावा आप समसामयिक मुद्दों के लिए किताबों का भी सहारा लें सकते है। इसके लिए आप चाहे तो NCERT और NIOS की किताबों को पढ़ सकते है ये किताबें आनलाईन नि:शुल्क उपलब्ध है।

स्टेप (3) विषयों का चुनाव करते समय रखे कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान

सिविल सेवा परीक्षा में सबसे जरूरी होता है विषय का अध्ययन इसलिए, विषय का चयन करते समय इस बात ध्यान रखें कि आपको उस विषय में रूचि है या नही। वैसे तो कोई भी विषय अध्ययन के लिए असंभव नही है लेकिन फिर भी जिस विषय में आपकी रूचि है उसी विषय का चयन करना आपके लिए फायदेमंद रहता है। सिविल सेवा परीक्षा का सिलेबस बहुत बड़ा होने के कारण पूरे साल भर अध्ययन करना पड़ता है। इसलिए योजना के अनुसार ही चलते हुए पूरे साल अध्ययन करना जरूरी है।



स्टेप (4) UPSC
Preparation के लिए जरूरी है एकाग्रता

सिविल सेवा परीक्षा निकालने के लिए ये जरूरी है कि आप अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र रहे। क्योंकि सिविल सेवा की परीक्षा कोई बैंकिग या एसएससी की परीक्षा नही है जिसमें रट्टा मारने से सफलता मिल जाती है। इसलिए इस परीक्षा की तैयारी के लिए आपको त्याग तो करना ही पड़ेगा, इसके बिना आप इस परीक्षा में कुछ नही कर सकते। आपको दो से तीन साल सिविल सेवा के लिए देने ही पड़ेंगे। इन सालों में हर दिन आपको नियमित अध्ययन करना पड़ेगा।

स्टेप (5) UPSC
Preparation के लिए कितना पढ़ना जरूरी है

सिविल सेवा परीक्षा के लिए वैसे तो एक साल पर्याप्त है लेकिन लोगों को दो से तीन साल भी लग जाते है। ये अलगअलग लोगों की क्षमता पर निर्भर करता है कि वे कितना अध्ययन कर सकते है। इसलिए हर दिन कम से कम 6 घंटे रोजाना पढ़ाई करना जरूरी है। कई बार ऐसा होता है कि आप तैयारी करतेकरते डिमोटिवेट हो जाते है इसलिए मोटिवेशनल किताबों को पढ़े। आपके आसपास कैसे लोग रहते है इसका आपकी जिंदगी पर काफी असर पड़ता है। अगर आपके आसपास नेगेटिव लोग रहते है तो ऐसे लोगों से जितना हो सके दूर रहने का प्रयास करे। ऐसे लोगों के साथ रहे जो आपको अच्छा फील करवाते है।

स्टेप (6) क्या
UPSC Preparation के लिए दिल्ली जाना जरूरी है?


आपने भी लोगों से सुना होगा कि UPSC यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली जाकर कोचिंग करना जरूरी है। लेकिन आपको बता दें कि आप घर पर रहकर भी सिविल सेवा UPSC की तैयारी कर सकते है। बस आपको अपनी जिंदगी में थोड़ा सा बदलाव लाना पड़ेगा और आप घर रहकर भी उचित अध्ययन सामग्री से सिविल सेवा की परीक्षा पास कर सकते है। बाहर जाकर पढ़ाई करने के भी अपने ही टेंशन रहते है इसलिए अपने शहर में रहकर भी आप अध्ययन कर सकते है। आप चाहे तो कोई कोचिंग भी लगा सकते है।

स्टेप (7) पढाई
के साथ लिखने का अभ्यास भी जरूरी है

आपको पढ़ने के साथ लिखने का भी अभ्यास करना है क्योंकि प्री एग्जाम निकालने के बाद मेंस की परीक्षा देनी पड़ती है जिसमें आपको लिखना पड़ता है। आप किसी भी टॉपिक पर संक्षेप में लगभग 200 शब्दों में लिखने का प्रयास करें। जितना आप लिखने की कोशिश करोगे उतनी ही आपकी लेखन शैली सुधरेगी और व्याकरण में कम गलती होगी। प्लान बी तैयार रखें लाखों उम्मीदवार यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करते हैं, लेकिन इसमें सभी सफल नहीं हो पाते हैं। ऐसे में यदि आप परीक्षा में पास नहीं हो पाते हैं तो आपको प्लान बी तैयार रखना चाहिए। यूपीएससी की तैयारी के समय अपने विश्व इतिहास, राजनीति, भूगोल, अर्थव्यवस्था, नैतिक सिद्धांतों, विभिन्न दार्शनिकों और क्रांतिकारियों को पढ़ा होगा, यह विषय आपके भविष्य के लिए मददगार होंगे। जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए रखना और उद्देश्य की स्पष्टता होना आपको हमेशा एक अच्छा जीवन जीने के लिए प्रेरित करेगा।


 

By Neha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *