5G Network Par Nibandh
| 5G Network
Kya hai | 5G नेटवर्क क्या है, निबंध, स्पीड, फायदे, नुकसान

5G नेटवर्क क्या है, तकनीक, निबंध, स्पीड, कब लांच हुआ, लाभ, नुकसान, स्पेक्ट्रम, मोबाइल, कीमत [5G Network in
Hindi] (Launched Date, Test in India, Nuksan, Latest News, Essay, Speed,
Bandwidth, Benefits, Side Effects

5G नेटवर्क टेक्नोलॉजी क्या है? 5G network Technology Kya hai

5G की टेक्नोलॉजी दूरसंचार की टेक्नोलॉजी से संबंध रखती है। किसी भी तकनीक का इस्तेमाल वायरलेस तकनीक के जरिए किया जाता है। दूरसंचार की इस नई तकनीक में रेडियो तरंगे और विभिन्न तरह की रेडियो आवृत्ति का इस्तेमाल किया जाता है। अब तक जितने भी टेक्नोलॉजी दूरसंचार के क्षेत्र में चुके हैं, उनके मुकाबले में यह तकनीक काफी नई और तीव्रता से कार्य करने वाली तकनीक है। इस नवीन तकनीक का अंतिम मानव का निर्धारण आईटीयू यानी कि इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशन यूनियन के हाथों किया जाता है। 5G की तकनीक 4G तकनीक के मुकाबले नेक्स्ट जनरेशन की तकनीक है और यह अब तक चुकी सभी तकनीक से सबसे ज्यादा आधुनिक तकनीक मानी जा रही है।

5G Network Par Nibandh | 5G Network Kya hai | 5G नेटवर्क क्या है | 5G नेटवर्क पर निबंध, स्पीड, फायदे, नुकसान


नाम

5 G नेटवर्क 5G Network

लांच

सन 2020

भारत में लांच

सन 2021 (दूसरी छमाही से)

स्पीड

20 GB
प्रति सेकंड

इंटरनेट स्पीड

1 GB फाइल डाउनलोड प्रति सेकंड

बैंडविड्थ

3500 मेगाहर्ट्ज

कैसा है Airtel का 5G Network?

Airtel
कंपनी की 5G सर्विस 4G के मुकाबले 10 गुना
ज्यादा तेज होगी. कंपनी ने इसे हैदराबाद में टेस्ट किया है और दावा किया है कि 5G नेटवर्क
पर एक फुल लेंथ मूवी को कुछ सेकेंडों में डाउनलोड किया जा सकता है.

5G नेटवर्क टेक्नोलॉजी भारत में लांच 5G Network Technology Launched

5G नेटवर्क हैदराबाद में
कमर्शियली हो चुकी है शुरुआत

एयरटेल कंपनी के CEO और
MD गोपाल बिठ्ठल ने Airtel 5G रेडी नेटवर्क
के बारे में अनाउंस किया है. Airtel 5G सर्विस को हैदराबाद में कमर्शियली लाइव किया
गया है. कंपनी के CEO ने बताया कि स्पेक्ट्रम अलॉटमेंट के साथ ही Airtel 5G सर्विस
शुरू की जा सकती है. 2022 के अंत तक पूरी तरह 5G नेटवर्क लांच होगा ऐसा अनुमान जताया जा रहा है कि अगले दो माह में
5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी की जायेगी और इस साल के अंत तक 5जी सेवा की औपचारिक शुरूआत
हो जायेगी. भारती एयरटेल के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी रणदीप सेखों ने कहा, आज की
प्रदर्शनी में हमने 5जी नेटवर्क की अनंत संभावनाओं और डिजिटल दुनिया में अत्यधिक व्यक्तिगत
इमर्सिव अनुभवों को सतही तौर पर ही छुआ है. हम 5जी आधारित होलोग्राम के जरिये वर्चुअल
अवतार को किसी भी स्थान पर ले जा सकेंगे, जो बैठकों, सम्मेलनों, लाइव न्यूज आदि के
लिये परिवर्तनकारी साबित होगा.

उन्होंने कहा, एयरटेल इस उभरती डिजिटल दुनिया में 5जी के लिये पूरी
तरह से तैयार है और भारत में इसके इनोवेटिव इस्तेमाल को बढ़ावा देने पर काम कर रहा
है. आवश्यकता
होगी। इसलिए इसे जल्द से जल्द लांच किया जायेगा।

5G नेटवर्क टेक्नोलॉजी के फायदे Benefit of 5G Network
Technology

बिना रुके चलेगा वीडियो

Airtel कंपनी ने बताया कि 1 जीबीपीएस (एक जीबी प्रति सेकंड) से अधिक की गति और 20 एमएस से कम की लैटेंसी के साथ, 50 से अधिक यूजर्स ने 5जी स्मार्टफोन पर उस मैच के दोबारा बनाये गये 4के पिक्सल के वीडियो का आनंद लिया. इस दौरान यूजर्स कई कैमरा एंगल से उस मैच को 360-डिग्री इनस्टेडियम व्यू के साथ रीयलटाइम एक्सेस कर सकते थे.

इस
नई तकनीक मुख्य विशेषता यह है कि इसकी सहायता से ऑटोमोबाइल के जगत में औद्योगिक उपकरण एवं संसाधन यूटिलिटी मशीन संचार एवं आंतरिक सुरक्षा भी पहले के मुकाबले और विकसित एवं बेहतर होने के साथसाथ इनके बीच में संबद्धता की वृद्धि होगी।

5G तकनीक सुपर हाई स्पीड इंटरनेट की
कनेक्टिविटी प्रदान करने के साथसाथ यह कई महत्वपूर्ण स्थानों में उपयोग में लाया जाएगा। इस टेक्नोलॉजी जाने से कनेक्टिविटी मे और भी ज्यादा विकास एवं शुद्धता प्राप्त होगी।

5G के
तकनीक की वजह से ड्राइवरलेस कार, हेल्थ केयर, वर्चुअल रियलिटी, क्लाउड गेमिंग के क्षेत्र में नएनए विकासशील रास्ते खुलते चले जाएंगे।

क्वॉलिकम के
अनुसार अभी तक 5G की तकनीक ने करीब 13.1 ट्रिलियन डॉलर ग्लोबल इकोनामी को आउटपुट प्रदान कर दिया है। इसकी वजह से दुनिया भर में करीब 22.8 मिलियन के नए जॉब अवसर विकसित हो रहे हैं।

5G नेटवर्क स्पीड 5G Network Speed

इस
नई तकनीक की स्पीड करीब एक सेकंड में 20GBके आधार पर इसके उपभोक्ताओं को प्राप्त होगी। इस तकनीक के जाने से टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए सभी कार्यों में तेजी से विकास होगा और सभी कार्य आसानी से काफी फास्ट स्पीड में किए जा सकेंगे।

इंटरनेट स्पीड में वृद्धि increase in internet
speed

अभी हम
वर्तमान समय में 4G तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं और इस तकनीक का इस्तेमाल करके हम 1 सेकेंड में करीब 1GB की फाइल को डाउनलोड करने की क्षमता रखते हैं, वही 5G की तकनीक में हमें 1 सेकेंड के अंदर करीब 10GB या इससे ऊपर की डाउनलोडिंग क्षमता वाली गति प्राप्त होगी।

डिजिटल इंडिया क्षेत्र में विकास (Development
in Digital India Sector

5G
नेटवर्क के जाने से देश में डिजिटल इंडिया को एक अच्छी गति प्राप्त होगी और साथ ही में देश के विकास में भी तीव्रता आएगी।

5G नेटवर्क टेक्नोलॉजी के नुकसान 5G Network Nuksan

तकनीकी शोधकर्ताओं और
विशेषज्ञों के अनुसार एक शोध में पाया गया कि 5G तकनीक की तरंगे दीवारों को भेदने में पूरी तरीके से असक्षम होती है। इसी के कारणवश इसका घनत्व बहुत दूर तक नहीं जा सकता है और इसी के परिणाम स्वरूप इसके नेटवर्क में कमजोरी पाई गई।

दीवारों को
भेदने के अलावा इसकी तकनीक बारिश, पेड़ पौधों जैसे प्राकृतिक संसाधनों को भी भेदने में पूरी तरीके से असक्षम सिद्ध हुई है। 5G तकनीक को लॉन्च करने के बाद हमें इसके नेटवर्क में काफी समस्या देखने को मिल सकती है।

कई
साधारण लोगों का मानना है, कि 5G तकनीक में जिन किरणों का उपयोग किया जा रहा है, उनका परिणाम काफी घातक सिद्ध हो रहा है और उसी का घातक परिणाम कोरोना वायरस है, परंतु अभी तक इस विषय में कोई साक्ष्य प्राप्ति नहीं हो सकी है।

5G नेटवर्क स्पेक्ट्रम बैंड 5G Network Spectrum

5G
की नई तकनीक में millimeter-wave स्पेक्ट्रम अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसका सर्वप्रथम विचार वर्ष 1995 में सबसे पहले जगदीश चंद्र बोस जी ने प्रस्तुत किया था और उन्होंने बताया था, कि इन वेब का इस्तेमाल करके हम कम्युनिकेशन को बेहतर बना सकते हैं। इस प्रकार की तरंगे करीब 30 से लेकर 300 गीगाहर्टज फ्रीक्वेंसी पर काम कर सकती हैं। ऐसी तरंगों का इस्तेमाल हम सैटेलाइट और रडार सिस्टम के अंदर भी इस्तेमाल करते हैं। 5G नेटवर्क की नई तकनीक करीब 3400 मेगाहर्ट्ज, 3500 मेगाहर्ट्ज और यहां तक कि 3600 मेगाहर्ट्ज बैंड्स पर काम कर सकती है। इस नई नेटवर्क तकनीक के लिए 3500 मेगाहर्ट्ज बैंड इसके लिए एक आदर्श बैंड कह सकते हैं, क्योंकि यह सबसे मध्य का बैंड है और इसके साथ ही यह काफी अच्छी कनेक्टिविटी भी प्रदान करता है।

5G में ‘G’ का मतलब क्या होता है? 5G में ‘G’ का
Matlab Kya hai

अब तक 1G से लेकर 5G टेक्नोलॉजी चुकी है। कई लोग सोचते हैं, कि आखिर “G” का क्या तात्पर्य होता है। तो दोस्तों हम आपको बता दें, कि 1G से लेकर 5G तक “G” का तात्पर्य जनरेशन से होता है, जनरेशन यानी की पीढ़ी। हम जिस भी पीढ़ी की टेक्नोलॉजी इस्तेमाल कर रहे होते हैं, उसके आगे “G” लग जाता है और यही “G” आधुनिक तकनीक के उपकरण को नई पीढ़ी के रूप में दर्शाने का कार्य करता है। हमारा देश धीरेधीरे नई तकनीक की ओर अग्रसर होता जा रहा है और हमारे देश में भी नईनई तकनीकों का निर्माण किया जा रहा है।

FAQ

Q : सर्वप्रथम 5G तकनीक को किस देश में लांच किया गया ?

ANS : साउथ कोरिया में सैमसंग के नए स्मार्टफोन 5G के साथ लॉन्च किया गया।

Q : भारत देश में 5G की तकनीक को कब लांच किया जाएगा ?

ANS : हमारे देश में 2021 की दूसरी छमाही तक लॉन्च करने की तैयारी किया गया है।

Q : 5G कैसे कार्य करता है ?

ANS :
5G
तकनीक बैंडविथ के टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करेगा और यह मिली मीटर वेव पर आधारित होगा। इसकी गति काफी तीव्र होगी।

Q : भारत में 5G किन फोन में चलाया जा सकेगा ?

ANS :
5G
तकनीक को सर्वप्रथम हमारे देश में मुकेश अंबानी लॉन्च करेंगे अर्थात इसे जियो के फोन में इस्तेमाल किया जा सकेगा।

Q : क्या 4G के फोन में 5G नेटवर्क कार्य कर सकेगा ?

ANS
नहीं। 

 

By Neha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *