Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana in hindi | (ABRY) आत्मनिर्भर
भारत रोजगार योजना 2022 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना ऑनलाइन आवेदन Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana एप्लीकेशन फॉर्म स्टेटस देखे एवं लाभ तथा पात्रता जाने

ABRY Benefits आपको बता दें कि आत्मनिर्भर
भारत रोजगार योजना के तहत सरकार 15,000 रुपये से कम वेतन प्राप्त करने वाले लोगों की
EFPO में कंपनी के 12 प्रतिशत सरकार द्वारा दिए जाते हैं

Atmanirbhar
Bharat Rozgar Yojana
आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना मोदी सरकार की बेहद महत्वाकांक्षी
योजना है
इस योजना
के तहत देश के लाख लोगों को रोजगार प्राप्त करने में मदद मिलती है. इसके लिए सरकार
कई तरह के अवसर की व्यवस्था करती है. सरकार द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक
अब तक देश के 58.76 लाख लोगों को कुल 4,920.67 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद मिली है.
बता दें कि यह आंकड़ा 30 अप्रैल 2022 तक का है

आपको बता दें
कि सरकार ने इस योजना की शुरुआत कोरोना (Corona Pandemic) के दौरान की थी. कोरोना महामारी
के दौरान देश के करोड़ों लोगों की नौकरी चली गई थी. इसके साथ ही देश में लंबे वक्त
तक लॉकडाउन (Lockdown) लगा रहा था. ऐसे में लोगों के लिए रोजगार के अवसर प्राप्त करने
के लिए आप उसकी मदद करने के लिए सरकार ने आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की शुरुआत की
थी

Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana in hindi | (ABRY) आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म

Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना

 योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को रोजगार के अवसर देने के लिए बहुत से कार्य किए जाएंगे संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों को रोजगार देने के लिए प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को आरंभ किया गया है यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े यहां हम आपको Aatmnirbhar
Bharat Rojgar Yojana 
का उद्देश्य, लाभ, पात्रता, दिशा निर्देश, जरूरी दस्तावेज तथा अन्य सभी जानकारियों से रूबरू कराएंगे

योजना के अंतर्गत रोजगार सर्जन लक्ष्य को किया गया पार

सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के अंतर्गत निर्धारित औपचारिक रोजगार सर्जन लक्ष्य को पार किया जा चुका है। December 2020 में इस योजना की अधिसूचना जारी की गई थी। जिसके पश्चात इस योजना के अंतर्गत 7.51 million नौकरियां सृजित की गई जो कि 5.85 million के प्रारंभिक लक्ष्य से एक चौथाई अधिक है। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 1 october 2020 से 30 march 2022 के बीच 1000 कर्मचारियों तक के उद्यमों में नियुक्त सभी नई औपचारिक नौकरियों का भविष्य योगदान कर्मचारियों और नियुक्त के हिस्से का किया जाएगा जो कि वेतन का 24% होगा। यह योजना केवल ₹15000 से कम आय वाले कर्मचारियों पर लागू की जाएगी।

 

इस योजना को रोजगार के अवसर प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से आरंभ किया गया था। इसके अलावा वर्ष
2024
तक इस योजना के अंतर्गत 22810 crore रुपए खर्च किए जाएंगे। 31
May 2022
तक 0.31 million प्रतिष्ठानों द्वारा
7.51 million
नए कर्मचारी पंजीकृत किए गए हैं। जिसके अंतर्गत सरकार द्वारा
5409.61 crore
रुपए खर्च किए गए हैं।

 

योजना के कार्यान्वयन के लिए खर्च किए जाएंगे 6400 करोड रुपए

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए भारत सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से लगभग 71 लाख कर्मचारियों को लाभ पहुंचा है। वर्ष 2020- 21 के लिए इस योजना के कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा 1000 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया था। जिसमें से 405 करोड रुपए खर्च किए गए थे। वर्ष 2021-22 के बजट मैं इस योजना के अंतर्गत 3130 करोड़ आवंटित किए गए थे। इस योजना को वर्ष 2022- 23 तक कार्यान्वित किया जाएगा जिसके लिए सरकार द्वारा कुल ₹6400 खर्च किए जाएंगे।

 

31 अक्टूबर
2021
तक Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana का लाभ
112060
संस्थानों द्वारा प्राप्त किया गया है। जिसके अंतर्गत
2214.47
करोड़ रुपए 3660141 कर्मचारियों को प्रदान किए गए हैं। 13
दिसंबर 2021 तक यह राशि बढ़कर 2736.66 करोड़ हो गई थी। 12
मार्च 2022 तक 5195330 कर्मचारियों को
4055.90
करोड़ की राशि योजना के अंतर्गत प्रदान की गई है।

 

Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana in Hindi

योजना
का नाम

आत्मनिर्भर
भारत रोजगार  ABRY

योजना
का प्रकार

केंद्र
सरकार

किसके
द्वारा आरम्भ

निर्मला
सीतारमण

आरम्भ
करने की तिथि

12-11-2020

योजना
की अवधि

2 वर्ष

उद्देश्य

रोजगार
के नए अवसर प्रदान
करना

लाभार्थी

नए
कर्मचारी

आधिकारिक
वेबसाइट

https://www.epfindia.gov.in/site_en/index.php

 

योजना के माध्यम से लाभवंती हुए 46.89 लाख नागरिक

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से 46.89 लाख नागरिक लाभवंती हुए हैं। इस बात की जानकारी संसद के माध्यम से 10 फरवरी 2022 को प्रदान की गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य महामारी के बीच रोजगार सर्जन को प्रोत्साहित करना है। 29 जनवरी 2022 तक 1.26 लाख प्रतिष्ठानों के माध्यम से 46.89 लाख लाभार्थियों को इस योजना का लाभ प्राप्त हुआ है। इस बात की जानकारी श्रम मंत्री रामेश्वर तेली द्वारा प्रदान की गई है। इस योजना को 1 अक्टूबर 2020 से प्रभावी रुप से लांच किया गया था। कोविड-19 महामारी के दौरान सामाजिक सुरक्षा लाभ और रोजगार के नुकसान की भरपाई के साथसाथ इस योजना के माध्यम से नए रोजगार के सर्जन के लिए नियुक्तओ को प्रोत्साहित किया जाता है।

Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana का संचालन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के माध्यम से किया जाता है। जिसके माध्यम से नियोक्ताओं के वित्तीय बोझ को कम किया जा सके एवं अधिक श्रमिकों को काम पर रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के अंतर्गत लाभार्थियों के पंजीकरण की अंतिम तिथि 30 जून 2021 से बढ़ाकर 31 मार्च 2022 कर दी गई थी।

योजना के बजट को बढ़ाकर किया गया 6400 करोड़

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को रोजगार प्रदान करने के लिए नियोक्ताओं को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से आरंभ किया गया था। इस योजना के अंतर्गत वित्त मंत्रालय द्वारा वर्ष 2022-23 के बजट को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। पहले इस योजना का बजट 3130 करोड़ रुपए था जिसे अब बढ़ाकर 6400 करोड रुपया कर दिया गया है। Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana के माध्यम से सरकार द्वारा ईपीएफ में कर्मचारी शेयर का भुगतान किया जाता है। इस योजना का लाभ वह सभी कर्मचारी उठा सकते हैं जिनकी वेतन ₹15000 या फिर इससे कम है।

इसके अलावा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा लेबर एंड एंप्लॉयमेंट मिनिस्ट्री एक्सपेंडिचर को 13306.50 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 16893.68 करोड़ रुपए कर दिया गया है। मिनिस्ट्री द्वारा सभी असंगठित क्षेत्र के कामगारों को श्रम पोर्टल पर रजिस्टर किया जा रहा है। पहले यह कार्य करने के लिए 150 करोड़ का बजट निर्धारित किया गया था जिसे बढ़ाकर 500 करोड़ रुपए कर दिया गया है।

 

योजना के माध्यम से प्रदान की गई 40 लाख नौकरियां

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं कोरोना महामारी के कारण पिछले दिनों कई लोगों की नौकरियां चली गई है। इस स्थिति में लोगों को राहत पहुंचाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana का शुभारंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से करीब 40 लाख लोगों को नौकरियां प्राप्त हुई है। 27 नवंबर 2021 तक कुल 39.59 लोगों को नौकरियां प्रदान की जा चुकी है। इन सभी नागरिकों को 1.16 लाख प्रतिष्ठानों के माध्यम से प्रदान किया गया है। इस बात की जानकारी श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री रामेश्वर तेली द्वारा प्रदान की गई। इस योजना को आत्मनिर्भर भारत पैकेज के अंतर्गत लांच किया गया था। वह सभी कंपनियां इस योजना का लाभ उठा सकते हैं जो ईपीएफओ के अंतर्गत रजिस्टर्ड है।

 

1000 से अधिक कर्मचारियों वाली कंपनियों को
प्रदान कि जाएगी दोहरी सब्सिडी

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का लाभ उठाने के लिए 50 कर्मचारियों से कम वाली कंपनियों को कम से कम 2 नए कर्मचारी को नौकरी प्रदान करनी होगी। इसी तरह 50 से अधिक कर्मचारी वाली कंपनियों को सब्सिडी का लाभ प्राप्त करने के लिए 5 नए नागरिकों को नौकरी प्रदान करनी होंगी। यदि प्रतिष्ठान में कर्मचारियों की संख्या 1000 तक है तो उनको दोहरी सब्सिडी प्रदान की जाती है। ऐसी सभी कंपनियों के कर्मचारियों को वेतन का 24% हिस्सा सब्सिडी के रूप में प्राप्त होता है। जिसमें कंपनी एवं कर्मचारी दोनों के हिस्से का 12-12% पीएफ कंट्रीब्यूशन शामिल होता है। सभी 1000 से अधिक कर्मचारियों वाली कंपनियों को 12% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। यह सब्सिडी 2 वर्ष तक प्रदान की जाएगी।

 

पंजीकरण की अंतिम तिथि का किया गया विस्तार

Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana को अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आरंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। यह योजना आत्मनिर्भर भारत 3.0 पैकेज के अंतर्गत घोषित कि गई थी। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के अंतर्गत पंजीकरण की अंतिम तिथि 30 जून 2021 निर्धारित की गई थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 31 मार्च 2022 कर दिया गया है। नागरिकों द्वारा आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से इस योजना के अंतर्गत आवेदन किया जा सकता है। ईपीएफ और एमपी अधिनियम 1952 के अंतर्गत पंजीकृत होने वाले नए कर्मचारी एवं नए प्रतिष्ठान 31 मार्च 2022 तक इस योजना के अंतर्गत पंजीकरण कर सकते हैं।

 

71.80 लाख कर्मचारियों को पहुंचाया जाएगा योजना
का लाभ

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को रोजगार के अवसरों में वृद्धि लाने के लिए आरंभ किया गया था। इस योजना को आरंभ करते समय लगभग 58.5 लाख लाभार्थियों को कवर करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। अब इस लक्ष्य को बढ़ाकर 71.80 लाख लाभार्थी कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से 71.80 लाभार्थियों को कवर किया जाएगा। इस बात की जानकारी श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा लोकसभा में प्रदान की गई है। 12 जुलाई 2021 तक इस योजना के माध्यम से 84,390 संस्थानों के 22.57 लाख कर्मचारियों को 993.26 करोड़ रुपए का लाभ प्रदान किया गया है। इस योजना को पिछले वर्ष आत्मनिर्भर भारत पैकेज 3.0 के अंतर्गत लांच किया गया था। इस योजना का कार्यान्वयन एम्पलाई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन के माध्यम से किया जा रहा है।

Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस योजना के माध्यम से उन कर्मचारियों को भी लाभ पहुंचाया जाएगा जिनकी नौकरी कोरोनावायरस संक्रमण के कारण गई है और उन्होंने 30 सितंबर 2020 तक किसी भी ईपीएफ कवर्ड संस्थान में नौकरी नहीं की है। सरकार द्वारा इस योजना का विस्तार अब 31 मार्च 2022 तक कर दिया गया है।

 

21 लाख कर्मचारियों को प्राप्त हुए नए रोजगार

इस योजना के अंतर्गत अब तक 22810 करोड़ रुपए का खर्च किया जा चुका है। जिससे कि 21 लाख नए कर्मचारियों की नियुक्ति हुई है। इस योजना का लाभ केवल वही कर्मचारी उठा सकते हैं जिनकी मासिक आय ₹15000 से कम है एवं वह 1 अक्टूबर 2020 से पहले किसी ऐसे संस्थान में काम नहीं कर रहे थे जो ईपीएफओ के साथ रजिस्टर्ड है। इसके अलावा कर्मचारियों के पास यूएएन नंबर होना भी अनिवार्य है। यदि किसी कर्मचारी की सैलरी ₹15000 से कम है एवं वह ईपीएफओ का मेंबर है तो उसे इस योजना का लाभ तभी प्रदान किया जाएगा जब उसकी 1 मई 2020 से 30 सितंबर 2020 के बीच नौकरी गई हो। इस अवधि के दौरान कर्मचारी किसी ऐसी कंपनी से जुड़ा नहीं होना चाहिए जो ईपीएफओ के साथ रजिस्टर है।

 

16.5 लाख लाभार्थियों को मिला योजना का लाभ

 इस योजना को कोरोना संक्रमण के दौरान हुई रोजगार के नुकसान की भरपाई करने के लिए आरंभ की गई है। इस योजना के अंतर्गत नई नियुक्ति पर 2 साल तक सरकार द्वारा कर्मचारी भविष्य निधि का योगदान किया जाएगा। यह योगदान वेतन का 12%–12% होगा। इस योजना के माध्यम से नियोक्ता रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित होंगे। इस योजना के अंतर्गत अब तक लगभग 16.5 लाख नागरिकों को लाभ पहुंचा है। यह जानकारी श्रम मंत्री संतोष गंगवार द्वारा 17 मार्च 2021 को राज्यसभा में दी गई है। Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के माध्यम से कार्यान्वित किया जाएगा।

इसके अलावा श्रम मंत्री द्वारा यह भी बताया गया कि पीएमजीकेवाई योजना के अंतर्गत 38.82 लाख कर्मचारियों के ईपीएफ खाते में 2567.66 करोड़ रुपए जमा किए गए हैं। इसके अलावा अप्रैल से दिसंबर 2020 के दौरान कर्मचारी भविष्य निधि योजना में 9.27 लाख महिलाएं, नई पेंशन योजना में 1.13 लाख तथा कर्मचारी राज्य बीमा योजना में 2.03 लाख महिला कर्मचारी जुड़ी है।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना सर्वेक्षण Self-reliant
India Employment Scheme Survey

श्रम मंत्री संतोष गंगवार द्वारा 18 फरवरी 2021 को नीति निर्माण के लिए आंकड़ों के महत्व पर जोर देते हुए प्रवासी एवं घरेलू श्रमिकों सहित पांच अखिल भारतीय सर्वेक्षण के लिए सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन लॉन्च करने का निर्णय लिया है। श्रम मंत्री द्वारा सर्वेक्षण के लिए दिशा निर्देश एवं प्रश्नावली भी प्रदान कि गई है। सटीक आंकड़ों के आधार पर सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं बनाई जाती हैं। यदि सरकार के पास सटीक डाटा उपलब्ध नहीं होगा तो सरकार द्वारा सटीक योजनाएं नहीं बनाई जा सकेंगी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा सर्वक्षण आयोजित किया जाएगा। इस सर्वक्षण के माध्यम से जो डाटा कलेक्ट किया जाएगा उस के माध्यम से योजनाएं बनाई जाएंगी। श्रम मंत्रालय द्वारा पांच सर्वक्षण किए जाएंगे जो कि कुछ इस प्रकार है।

ऑल इंडिया सर्वे ऑन माइग्रेंट वर्कर्स

ऑल इंडिया सर्वे ऑन डॉमेस्टिक वर्कर्स

दी ऑल इंडिया सर्वे ऑन इंप्लॉयमेंट जेनरेटेड बाय प्रोफेशनल

ऑल इंडिया सर्वे ऑन इंप्लॉयमेंट जेनरेटेड इन ट्रांसपोर्ट सेक्टर

ऑल इंडिया क्वार्टरली establishment बेस्ड एम्प्लॉयलेंट सर्वे

इन सर्वक्षण के माध्यम से यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि सरकार द्वारा संचालित की जाने वाली योजनाएं सटीक ढंग से कार्यरत की जा रही हैं या नहीं। सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना आरंभ की गई थी। जिसके अंतर्गत सरकार ने 25000 करोड रुपए का 2 साल के लिए बजट निर्धारित किया था। इस योजना के माध्यम से 54 लाख नए कर्मचारियों को रोजगार प्रदान किया जाएगा। इन सर्वे के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की भी समीक्षा की जा सकेगी और यह पता लगाया जा सकेगा कि यह योजना सही से कार्यरत की जा रही है या नहीं। इन सर्वे का रिजल्ट 7 से 8 महीने में जाएगा।

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को मिली केंद्रीय
मंत्रिमंडल से मंजूरी

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को कंपनियों को नियुक्तियां करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए आरंभ किया गया था। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 2 साल तक कंपनियों और अन्य इकाइयों द्वारा की गई नई भर्तियों के लिए ईपीएफ में कर्मचारी तथा नियुक्त दोनों का अंशदान सरकार द्वारा किया जाएगा। Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana के अंतर्गत केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा 1585 करोड़ रुपए की मौजूदा वित्त वर्ष के लिए मंजूरी दे दी गई हैम इसके अलावा इस योजना की पूरी अवधि जो कि 2020 से 2023 तक है के लिए 22,810 करोड़ रुपए की मंजूरी दे दी गई है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से 58.5 लाख कर्मचारियों को लाभ पहुंचेगा।

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 10 लाख नौकरियों
का लक्ष्य

Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana के अंतर्गत यदि कंपनियां लॉकडाउन के दौरान नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों को वापस लेती हैं तो उन्हें 12% से लेकर 24% तक की ईपीएफओ द्वारा वेतन सब्सिडी प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के माध्यम से अगले 2 साल में 10 लाख नौकरियां पैदा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इस योजना के अंतर्गत लगभग ₹6000 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। सूत्रों के अनुसार अब तक 20 या फिर उससे अधिक श्रमिकों वाली 5 लाख कंपनियां ईपीएफओ ने पंजीकरण कर चुकी है। जिसमें से यदि प्रत्येक कंपनी ने दो कर्मचारियों को नौकरी प्रदान की तो 10 लाख नौकरियों का लक्ष्य आसानी से प्राप्त हो जाएगा। यह सरकार का नौकरी सर्जन की दिशा में एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है। इस कदम से जिन लोगों की लॉकडॉउन के कारण नौकरी गई थी उन्हें जल्द से जल्द नौकरी प्राप्त हो जाएगी। यह भी संभावना लगाई जा रही है कि साल की शुरुआत में अर्थ व्यवस्था ठीक नहीं थी लेकिन साल के अंत में अर्थवयवस्था बेहतर होने की उम्मीद है। कई सारे सेक्टरों में मांग बढ़ रही है। जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि नौकरी गंवाने वाले कर्मचारियों को जल्द से जल्द नौकरी वापस प्राप्त हो जाएगी।

 

PM Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana purpose
प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का उद्देश्य

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य कोरोना महामारी के कारण अपना रोजगार गवा चुके लोगों को पुनः नए रोजगार के अवसर प्रदान करना है इस योजना के आरंभ होने से निश्चित ही अर्थव्यवस्था में एक नया बदलाव आएगा तथा हम एक विकसित अर्थव्यवस्था की ओर पुनः प्रवेश करेंगे यह योजना निश्चित रूप से रोजगार प्रदान करने में एक सकारात्मक भूमिका निभाएगी|

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना
लाभार्थी Self-reliant India Employment Scheme Beneficiaries

योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा उन नए कर्मचारियों को लाभ प्रदान किया जाएगा जो पहले भविष्य निधि में पंजीकृत नहीं थे और अब वह यदि किसी संस्था में ईपीएफओ के अंतर्गत पंजीकृत होते हैं और उनकी सैलरी अथवा वेतन ₹15000 प्रति माह से कम होता है या वह व्यक्ति जिन की नौकरी 1 मार्च 2020 से लेकर 30 सितंबर 2020 के बीच नौकरी चली गई है और पुनः 1 अक्टूबर 2020 के बाद उनको दोबारा नौकरी मिल वह कर्मचारी भविष्य निधि निधि के अंतर्गत पंजीकृत हुआ तो उनको ही Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana के अंतर्गत सम्मिलित किया जाएगा और सभी लाभ प्रदान किए जाएंगे

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के लाभार्थी कर्मचारी
Beneficiary employees of self-reliant India employment scheme

 वह कर्मचारी जिनकी वेतन ₹15000 से कम है और जो 1 अक्टूबर 2020 से पहले किसी ईपीएफओ रजिस्टर्ड प्रतिष्ठान में नियुक्त नहीं थे और उनके पास यूनिवर्सल अकाउंट नंबर नहीं था या फिर ईपीएफ मेंबर अकाउंट नंबर 1 अक्टूबर 2020 से पहले नही था।

  • वह कर्मचारी जिनके पास यूनिवर्सल अकाउंट नंबर था और उनको ₹15000 से कम की वेतन प्राप्त हो रही थी। जिनकी नौकरी कोरोनावायरस संक्रमण के कारण 1 मार्च 2020 से 30 सितंबर 2020 के बीच चली गई हो और उनकी किसी भी ईपीएफ रजिस्टर्ड प्रतिष्ठान में 30 सितंबर 2020 से पहले नियुक्ति ना हुई हो।

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना स्टैटिसटिक्स
Self-reliant India Employment Scheme Statistics

प्रतिपूर्ण
की गई राशि

Rs 3457.08 crore

लाभवंती
हुए प्रतिष्ठान

1,27,348

लाभार्थियों
की संख्या

47,04,338

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का मूल्यांकन
Evaluation of self-reliant India employment scheme

 ईपीएफओ द्वारा इस योजना को बंद होने से पहले 3 महीने की अवधि के भीतर योजना का तीसरा पक्ष मूल्यांकन किया जाएगा एवं डीजीई, श्रम और रोजगार मंत्रालय भारत सरकार को एक रिपोर्ट भेजी जाएगी। योजना के मूल्यांकन पर होने वाला खर्च ईपीएफओ द्वारा अपने संसाधनों से वहन किया जाएगा। 

Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana का निगरानी
तंत्र

 ईपीएफओ द्वारा साप्ताहिक आधार पर इस योजना के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए एक तंत्र स्थापित किया जाएगा।

  • इस योजना के प्रभावी निगरानी के लिए श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार को ईपीएफओ द्वारा मासिक रिपोर्ट प्रदान की जाएगी।
  •  

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का कार्यान्वयन

 

  • इस योजना को लागू करने के लिए ईपीएफओ द्वारा एक सॉफ्टवेयर विकसित किया जाएगा।
  • इसके अलावा एक ऐसी प्रक्रिया भी विकसित की जाएगी जो पारदर्शी और जवाबदेही हो।
  • सॉफ्टवेयर के माध्यम से नियुक्तओ तथा कर्मचारियों के लिए पात्रता मानदंड को स्पष्ट रूप से परिभाषित किया जाएगा।
  • ईपीएफओ द्वारा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से ईपीएफ के सदस्यों के आधार से जुड़े खाते में धनराशि जमा की जाएगी।

 Aatmnirbhar Bharat Rozgar Yojana का लाभ
कैसे उठाएं

 इस योजना के अंतर्गत कर्मचारी और संस्था दोनों को ही लाभ प्रदान किया जाएगा |

  • ईपीएफओ के अंतर्गत रजिस्टर्ड संस्था यदि नए रोजगार के अवसर प्रदान करती है तो उन संस्थाओं को इस योजना के लाभ मिल पाएंगे |
  • ऐसी संस्थाएं जिनकी कर्मचारी क्षमता 50 से कम है और वह संस्थाएं दो या दो से अधिक कर्मचारियों को रोजगार प्रदान करती है और उन कर्मचारियों को भविष्य निधि के अंतर्गत पंजीकृत करती है तो ही संस्था कर्मचारी दोनों को योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा |
  • इसी प्रकार ऐसी संस्थाएं जिनकी कर्मचारी क्षमता 50 से अधिक है तो उनको न्यूनतम 5 नए कर्मचारियों को रोजगार प्रदान कर उनको ईपीएफओ के अंतर्गत पंजीकृत करना अनिवार्य है
  • जो भी संस्थाएं आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का लाभ उठाना चाहती है उनका स्वयं का ईपीएफओ के अंतर्गत पंजीकृत/रजिस्टर्ड होना आवश्यक है ताकि नए कर्मचारी तथा संस्था दोनों को लाभ दिया जा सके

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के मुख्य तथ्य

 इस योजना के माध्यम से ईपीएफओ के साथ पंजीकृत पात्र प्रतिष्ठानों के नियुक्तओ और नए कर्मचारियों को प्रोत्साहन प्रदान किया जाता है।

  • यह प्रोत्साहन पंजीकरण के पश्चात 2 साल तक प्रदान किया जाता है।
  • 1 अक्टूबर 2020 के बाद ईपीएफओ में पंजीकृत प्रतिष्ठानों के सभी नए कर्मचारियों को लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • वह सभी नए कर्मचारी जिनकी वेतन ₹15000 से कम है उनको इस योजना का लाभ पंजीकरण की तिथि से 24 महीनों तक प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ संस्थान को केवल तभी प्रदान किया जाएगा जब वह निर्धारित न्यूनतम संख्या में नए कर्मचारियों की नियुक्ति करता है।

 प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना
के लाभ

हमारी केंद्र सरकार इस योजना के अंतर्गत आगामी 2 वर्ष तक योजना के लाभ प्रदान करेगी तो आइए जानते हैं भारत सरकार द्वारा किस प्रकार के लाभ योजना के अंतर्गत प्रदान किए जाएंगे

  • जिन संस्थाओं की कर्मचारी क्षमता 1000 से कम है उन संस्थाओं में कर्मचारी के वेतन के अनुसार उसके हिस्से का 12% तथा काम देने वाली संस्था के हिस्से का 12% जो कि कुल 24% हुआ केंद्र सरकार द्वारा भविष्य निधि ईपीएफओ के अंतर्गत जमा कराया जाएगा
  • इसी प्रकार जिन संस्थाओं की कर्मचारी क्षमता 1000 से अधिक है तो इन संस्थाओं में कार्यरत कर्मचारियों के वेतन के अनुसार कर्मचारी के हिस्से का 12% ही केंद्र सरकार द्वारा भविष्य निधि में दये होगा
  • यह योगदान केंद्र सरकार द्वारा अगले 2 वर्ष तक प्रदान किए जाएंगे

 

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना ऑनलाइन आवेदन

जो कर्मचारी, संस्था तथा लाभार्थी Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana के अंतर्गत लाभ उठाना चाहते हैं उन्हें भविष्य निधि ईपीएफओ के अंतर्गत अपना पंजीकरण करवाना होगा। पंजीकरण करने की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार है।

 

एंप्लॉयर्स के लिए

 

  • सर्वप्रथम आपको ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको Services
    के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको एंपलॉयर्स के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर एस्टेब्लिशमेंट के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात यदि आप श्रम सुविधा पोर्टल पर पंजीकृत है तो आपको User ID,
    Paasword
    तथा Captcha Code दर्ज करके लॉगइन करना होगा।
  • यदि आप पंजीकृत नहीं है तो आपको साइन अप के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने पंजीकरण फॉर्म कौन कराएगा जिसमें आपको अपना नाम, ईमेल, मोबाइल नंबर बता वेरीफिकेशन
    कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको Sign up के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आवेदन प्रक्रिया
    सफलतापूर्वक हो जाएगी।

 

Employee के लिए

 

  • सबसे आपको ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको Services के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको Employees के टैब पर क्लिक करना होगा।

 

Contact Information

हमने अपने इस लेख के माध्यम से आपको आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं। हेल्पलाइन नंबर 1800118005 है।

 

 

 

By Neha

3 thought on “Aatmnirbhar Bharat Rojgar Yojana in hindi | (ABRY) आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म”
  1. Mujhe aatmnirbhar Bharat Yojana se training later mila hai usmein mujhe training ke liye 3850 mang rahe hain sahi hai kya bataen aap

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *